बिलासपुर

शुगर के रोगी करें फ़ाइबर वाले फलों का सेवन

नरेश चौहान


बिलासपुर।कोराना काल में सभी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए दवा, काढ़ा, और पौष्टिक भोजन से लेकर योगा और एक्सरसाइज पर ध्यान दे रहे हैं। लेकिन ठंड का मौसम आने से एक बार फिर कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में सबसे अधिक सावधानी शुगर से ग्रसित लोगों को बरतनी चाहिए। ऐसे लोग खुद की सेहत को बढ़िया रखने के लिए फल का सेवन तो करते हैं, लेकिन कई लोगों को यह नहीं मालूम कि उनके लिए कौन से पल फायदेमंद हैं और कौन से नहीं हैं।
इस बारे में जिला अस्पताल के आरएमओ डॉ. सीबी मिश्रा ने बताया शुगर से ग्रसित मरीजों को सेब, अमरूद, नाशपाती, पपीता, सिंघाड़ा और पाइनऐपल जैसे फलों का सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें फायबर की मात्रा बहुत अधिक होती है, साथ ही शुगर कंटेंट बहुत कम होता है।
इस कारण यह फल शुगर के रोगियों का ब्लड शुगर स्तर सामान्य बनाए रखते हैं। जो शुगर पेशेंट नियमित रूप से इन फलों का सेवन करते हैं, उन्हें एनर्जी की कमी, थकान, शरीर में भारीपन और शुगर के अचानक बढ़ने की समस्या नहीं होती है।
ज्यादातर लोगों के मन में अक्सर यह सवाल आता है कि क्या शुगर के पेशंट्स केले का सेवन कर सकते हैं? इस बारे में डॉ. मश्रा कहते हैं कि केले में नैचरल शुगर बहुत अधिक मात्रा में होती है। यह शुगर शरीर में पहुंचने के बाद बहुत जल्दी रक्त में मिल जाती है और कुछ ही समय के अंदर रोगी का ब्लड शुगर बहुत अधिक बढ़ा सकती है।इसलिए शुगर के रोगियों को केले का सेवन नहीं करना चाहिए। यही बात आम, लीची, चीकू जैसे बहुत अधिक मीठे फलों पर भी लागू होती है। यानी इन फलों के सेवन से भी शुगर के मरीजों को बचना चाहिए। कभी यदि बहुत अधिक इच्छा हो तो आधा या एक पीस खाया जा सकता है।
नैचरल स्वीटनर्स आमतौर पर शुगर पेशंट्स के लिए एक सुरक्षित विकल्प माने जाते हैं। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि इनमें मौजूद प्राकृतिक शुगर शरीर में जाने के बाद तेजी से रक्त में मिल जाती है और तुरंत ब्लड शुगर लेवल बढ़ाने का काम करती है।

डॉक्टर मिश्रा के अनुसार, जिन लोगों को अपने आहार और उनकी कैलरी के बारे में अच्छी जानकारी होती है, वह अपने भोजन में कैलरी का संतुलन बनाकर यदि सीमित मात्रा में शुगर का सेवन भी करते हैं तो उनके शरीर पर इस पर इसका बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है क्योंकि कैलरी मैनेजमेंट के चलते उनका ब्लड शुगर लेवल सामान्य बना रहता है।

Back to top button