सारंगढ़

सारंगढ़ के इस सोसायटी मे अन्नदाताओं के साथ हो रहा खिलवाड़ पढ़िए और देखिए विडिओ

हेमेन्द्र जयसवाल

सारंगढ़ अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत अमझर सोसाइटी में इन दिनों किसानों से एक बोरी में एक से दो किलो वजन ज्यादा लिया जा रहा है इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार एक किसान ने दूरभाष के माध्यम से मीडिया कर्मियों को फोन करके बताया कि अमझर के सोसाइटी प्रबंधक लालाराम के हेमाल के द्वारा धान तौलने वक्त एक से दो किलो ज्यादा लिया जा रहा है तब मीडिया कर्मी वहां पहुंचे और एक बोरी धान को तौलाया तो पता चला कि एक बोरी में 1 से 2 केजी ज्यादा है वही किसानों का कहना है कि हम लोग दिन रात मेहनत करके फसल उगाते हैं और यहां बैठे भ्रष्ट कर्मचारी हमसे एक दो केजी लूट रहे हैं। जब इस संबंध में वहां के प्रबंधक लालाराम से बात करना चाहे तो उन्होंने कहा कि मैं कुछ बाइट नहीं दूंगा जो छापना है छाप सकते हैं , और वहां के हेमल द्वारा कोई भी प्रकार का मास्क नहीं लगाए हुए थे, जबकि कलेक्टर भीम सिंह के सख्त निर्देश है कि तौल होते समय मास्क लगाएं और सेनिटाइजर का उपयोग करें , लेकिन यहां तो नियमों की पूरी तरह से धज्जियां उड़ाई जा रही है।

ऐसा नहीं है कि यहां के प्रबंधक द्वारा एक ही बार 1 से 2 केजी लिया जा रहा है इससे पहले वर्ष अभी किसानों से तौल करते समय एक से दो केजी ज्यादा लिया जा रहा था । जब इसकी शिकायत किसानों ने किया था तो पहले जो एसडीएम थे उन्होंने कार्यवाही की थी, लेकिन पता नहीं इस प्रबंधक को अब अपनी राजनीतिक पहुंच की इतना गुमान है कि कोई अधिकारी आज तक इस पर कोई बड़ी कार्यवाही किए हैं । अब देखना लाजमी होगा कि इस पर अधिकारी क्या कार्यवाही करते हैं ।

मल्दा ब में भी जारी है एक से दो केजी अत्यधिक लेने का सिलसिला ।

जब मल्दा सोसाइटी केंद्र पहुंचे तो वहां भी तौल एक बोरी को लाया गया तो 1 से डेढ़ केजी किसानों से ज्यादा लिया जा रहा है । इसका प्रबंधक एक ही है जो अमझर और मल्दा को देख रहा है ऐसा नहीं है कि यहां पर नोडल अधिकारी नहीं है , नोट नोडल अधिकारी भी हैं लेकिन बस वह तो कुर्सी लगाकर बैठे हुए हैं क्या आ रहा है क्या जा रहा है उसको देखना भी नहीं है उनको देखेंगे भी कैसे उनको तो मुफ्त में वेतन मिल रहा है जैसा लग रहा है ।

अपने मुनाफे के लिए किसानों से एक से दो केजी लिया जा रहा है ज्यादा क्योंकि प्रबंधक को तो जो राइस मिल में जाएगा वहां पर धर्म कांटा से देना है तो हर किसान से एक से दो केजी ज्यादा लेंगे तो जाहिर सी बात है कि उन्हें मोटा कमाई मिलेगा इसीलिए तो जांच होता है लेकिन कार्यवाही के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही होता है अगर अधिकारी चाहे तो इस पर सख्त से सख्त कार्यवाही कर सकते हैं ।

मीडिया कर्मियों को कहता है कि जो छापना है छाप दो, मेरा कोई कुछ उखाड़ने वाला नहीं है, मेरा राजनीतिक पहुंच इतना है कि मेरे को कोई कुछ नहीं कर सकता है। अब तो आगे जांच का विषय है आगे जांच करेंगे तो पता चलेगा की इस पर क्या कार्यवाही होती है।

क्या कहते हैं सारंगढ़ एसडीएम

जब इस संबंध में हमने सारंगढ़ एसडीएम से दूरभाष के माध्यम से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि किसानों से कोई ज्यादा नहीं लेना है इसकी जानकारी आप के माध्यम से हमको मिला है हम जल्द ही इस पर जांच कर आगे की कार्यवाही करेंगे ।

Back to top button