Uncategorizedछत्तीसगढ़बलौदाबाजार

छत्तीसगढ़ पिता पुत्र ने धारदार हसिया से छोटे भाई की गलाकाट दर्दनाक हत्या को दिया अंजाम, जानिए आखिर क्यों पढ़िए पूरी कहानी ……

बलौदाबाजार 14 मई 2021 । युवक का सर काटकर हत्या किया गया है। पलारी पुलिस ने अंधे कत्ल की गुत्थी 08 दिन के अंदर सुलझा दी। हत्याकांड के दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामला बलौदाबाजार के थाना पलारी का है। हत्या मृतक के पिता और बडे भाई ने ही की थी।

जानकारी के मुताबिक मृतक कमलेश मनहरे के पिता अमरसिंग मनहरे और बडे भाई जितेन्द्र मनहरे से लगातार पूछताछ किया जा रहा था, जो गोल गोल जवाब दे रहे थे। तत्पश्चात् मृतक की पत्नी ननकी मनहरे को हिकमत अमली से पूछताछ किया गया जो घटना का पर्दाफाश करते हुये बताई कि वर्ष 2013 से ही कमलेश मनहरे को पागल पन का दौरा आता था तब घर वालों को मां बहन की गंदी गंदी गाली देकर परेशान करता था।

अमरसिंग आरोपी पिता

घटना दिनांक 05.05.2021 की रात जब अपने पति कमलेश और ससुर अमरसिंग के साथ घर कुसमी में थे उस समय जेठ जितेन्द्र मनहरे सास रजवन्तीन व नंनद रानी परसाभदेर में थे। तभी कमलेश मनहरे को पागल पन का दौरा आया। उसी समय जितेन्द्र मनहरे फोन लगाकर पूछा ठीक हुआ कि नहीं। दो-तीन बार पूछा ठीक नहीं होने पर करीब 11.00 बजे फोन आया।

तब अमरसिंग ने कमलेश की हत्या करने के लिये अपने बेटा जितेन्द्र मनहरे को बुलाया जो मोबाईल को परसाभदेर में छोडकर मोटर सायकल से घर आया और कमलेश मनहरे का गला दबाकर उसके पिता अमरसिंग और बडा भाई जितेन्द्र ने हत्या कर दिया और धारदार हसिया से गला काट दिये।

जितेन्द्र आरोपी बड़ा भाई

आग जला कर खून को बहने से रोकने के लिये हल्का झुर (जला) दिये। उसके बाद लाश को सायकल से ले जाकर पहंदा पुल बन रहा वहां खेत में रख दिये और खून सने बोरी, साल और आरोपीगण द्वारा पहने कपडे जिसमें खून सना था लेकर शमशान घाट कुसमी में जला दिये और राख को तालाब में फेंक दिये।

खून सने धमेला को धोकर घर में छिपा दिये। सायकल को पुराने घर में छिपा दिये और जिस हसिया से गला काटे थे उसे चौखडिया तालाब के पानी में फेंक दिये, सारे सबूतों को आरोपीगण के निशांनदेही पर जप्त कर लिया गया है। आरोपीयों को आज दिनांक 13.05.2021 को गिर0 कर न्यायिक रिमांड पर न्यायालय पेश किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button