Uncategorizedछत्तीसगढ़

आकाशीय बिजली गिरने से दो व्यक्तियों की मौत ,अंधविश्वास में जिंदा करने करने लगें ये काम ……पढ़ें……।

छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में सोमवार की देर शाम बारिश से बचने दुकान में रुके लोगों पर आकाशीय बिजली गिर गई। लोहे के टेबल में बैठे 2 युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। तथा वहीं दुकानदार सहित 4 अन्य लोग झटका लगने से बेहोश हो गए। दोनों मृत युवकों के शवों को ग्रामीणों ने जीवित हो जाने की उम्मीद में गोबर से लपेट दिया था। हालांकि इस अंधविश्वास का कोई लाभ नहीं हुआ। गाज गिरने से झुलसे 4 लोगों में 3 को प्रतापपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्राथमिक उपचार के बाद देर रात सभी को छुट्टी दे दी गई है। एक का उपचार किया जा रहा है।

तथा वहीं प्रतापपुर पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार बलरामपुर जिले के ग्राम करकेपा निवासी नंदलाल पैकरा और संजय यादव दोनों युवक सोमवार को बाइक से सूरजपुर जिले के प्रतापपुर बाजार आए थे। वहां से शाम को वापस घर लौटने के दौरान तेज गरज-चमक के साथ बारिश शुरू हो गई। दोनों ग्राम खजुरी में पेड़ के नीचे स्थित दुकान में रुक गए। दोनों लोहे के टेबल पर बैठे थे। इसी दुकान में बारिश से बचने अन्य 3 लोग भी थोड़ी-थोड़ी दूरी पर खड़े थे। दुकान संचालक रामरतन पैकरा भी वहीं मौजूद था। इसी दौरान तेज गरज-चमक के साथ दुकान पर आकाशीय बिजली (गाज) गिर गई। गाज की चपेट में आने से लोहे के टेबल-कुर्सी पर बैठे नंदलाल पैकरा और संजय यादव की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं झटका लगने से दुकान संचालक रामरतन पैकरा और 3 अन्य लोग भी बेहोश को गए।

जिंदा करने शवों को गोबर से लपेटा
आकाशीय बिजली की चपेट में आने से मृत संजय यादव और नंदलाल के शवों को देखकर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने अंधविश्वास में पड़कर उनके शरीर पर गोबर भी लगाया था। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग मानते हैं कि आकाशीय बिजली (गाज) के पीड़ितों को गोबर लपेटने से वे ठीक हो जाते हैं, जबकि ऐसा कुछ भी नहीं होता। सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों मृतकों के शवों को पीएम के लिए मरच्युरी भिजवाया है।

घायलों का किया गया उपचार
गाज गिरने की जानकारी मिलने पर प्रतापपुर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। सभी घायलों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। घायलों में 3 की स्थिति बिल्कुल सामान्य होने पर उन्हें प्राथमिक उपचार कर छुट्टी दे दी गई। एक अन्य घायल रामरतन का अस्पताल में इलाज जारी है। गाज की चपेट में आकर वह झुलस गया है। सरगुजा संभाग में गाज गिरने की अधिक घटनाएं होती है।

Back to top button