Uncategorized

देश में पहली बार हाईकोर्ट का ये फैसला अब तक के सबसे ज्यादा अवधि के गर्भ को गिराने की मिली अनुमति….!

दिल्ली : देश के न्यायिक इतिहास में पहली बार कोलकोता हाईकोर्ट ने एक अभूतपूर्व फैसला देते हुए एक मां को 34 सप्ताह के गर्भपात की अनुमति दी है. कोलकोता निवासी 37 वर्षिय एक मां ने अपने गर्भ में पल रहे इस गर्भ को गिराने की अनुमति तब मांगी है जब शहर के चिकित्सकों ने गर्भ में पल रहे भ्रूण में स्पाइना बिफिडा होने की जानकारी दी।

स्पाइना बिफिडा एक ऐसी बिमारी है जो किसी भी बच्चे के साथ जन्म से ही होती है जिसमें उसकी रीढ की हडडी ठीक से तैयार नही होती, जिसके चलते उसे जीवन भर रेंगकर चलना पड़ता है या फिर वह कभी भी चल ही नही सकता…अधिकांश चिकित्सको का मानना है ऐसे बच्चे पैदा होने के बाद भी कुछ ही सप्ताह जीवित रह पाते हैं।

हमारे देश में कानूनी रूप से फिलहाल 24 सप्ताह तक के गर्भ को गिराने की ही अनुमति दी जाती है…हाल ही में सरकार ने मेडिकल टर्मिनेशन आफ प्रेग्नेंसी (संशोधन) नियम 2021 में बदलाव​ किया था जिसके अनुसार सरकार ने गर्भपात की ऊपरी सीमा 20 से बढ़ाकर 24 सप्ताह करने के लिए नियम बनाये है।

24 सप्ताह तक के गर्भ को मेडीकल बोर्ड की मंजूरी के बाद निगरानी में ही गर्भपात कराया जा सकता है…लेकिन इससे ज्यादा अवधि के गर्भ के गर्भपात के लिए अदालत की अनुमति जरूरी है….ऐसे मामलो में हाईकोर्ट या फिर सुप्रीम कोर्ट ही फैसला करता है….इसमें भी महिला की मेडीकल स्थिती को बोर्ड द्वारा जांच करने और उसके जीवन की सुरक्षा निश्चित किये जाने के बाद ही अनुमति दी जाती है।

कोलकोता हाईकोर्ट के फैसले से पूर्व देश में बॉम्बे हाईकोर्ट ने 33 सप्ताह के गर्भपात की अनुमति दी थी..अगस्त 2021 में एक 20 वर्षिय युवती ने अपने गर्भ में पल रहे भ्रूण के गर्भपात की अनुमति इस आधार पर मांगी थी कि भ्रूण के मस्तिष्क में कई तरह की समस्याए थी जो उसके एक सामान्य जीवन को बेहद कठिन बना देती…कोलकोता हाईकोर्ट का ये फैसला अब तक के सबसे ज्यादा अवधि के गर्भ को गिराने की अनुमति देने का बन गया है….

मानसिक रूप से बीमार महिलाओं, भ्रूण में ऐसी कोई विकृति या बीमारी हो जिसके कारण उसकी जान को खतरा हो या फिर जन्म लेने के बाद उसमें ऐसी मानसिक या शारीरिक विकृति होने की आशंका हो जिससे वह गंभीर विकलांगता का शिकार हो सकता है, सरकार द्वारा घोषित मानवीय संकट ग्रस्त क्षेत्र या आपदा या आपात स्थिति में गर्भवती महिलाओं को भी शामिल किया गया है।

यह नए नियम मार्च में हाल ही में पारित मेडिकल टर्मिनेशन आफ प्रेग्नेंसी (संशोधन) नियम 2021 के तहत अधिसूचित किए गए हैं. पुराने नियमों के तहत, 12 सप्ताह (तीन महीने) तक के भ्रूण का गर्भपात कराने के लिए एक डॉक्टर की सलाह की जरूरत होती थी और 12 से 20 सप्ताह (तीन से पांच महीने) के गर्भ के मेडिकल समापन के लिए दो डॉक्टरों की सलाह आवश्यक होती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button