newsUncategorizedरायगढ़

नेपाली मूल के चार युवक चोरी की वारदात को अंजाम देने बना रखे थे गैंग….

रायगढ़ पुलिस ने किया लैलूंगा मोहन मित्तल के मार्ट में हुये चोरी का खुलासा….

सिक्युरिटी गॉर्ड का काम मांगने वाले ही निकले चोरी के आरोपी….

दो आरोपी गिरफ्तार, आरोपियों से चोरी के मोबाइल तथा नकदी की बरामदगी….

छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों में भी वॉचमेन का काम करने के बहाने चोरियों को देते थे अंजाम….

*रायगढ़* 28 Oct 2021 । लैलूंगा थानाक्षेत्र अन्तर्गत रायगढ़ रोड़ स्थित मोहन मित्तल के एम.आर. ट्रेडिंग में 17 अक्टूबर की दरम्यानी रात नगदी व मोबाइल चोरी करने वाले अज्ञात आरोपियों की पतासाजी के लिये गठित पुलिस टीम द्वारा आरोपियों की पतासाजी कर वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह के दो आरोपियों को मुम्बई से गिरफ्तार कर लाया गया है । गिरफ्तार दो आरोपियों के साथ उनके तीन साथी जो सभी नेपाली मूल के हैं, पिछले कई सालों से छत्तीसगढ़ सहित देश के कई अन्य राज्यों में चोरी की वारदात को अंजाम देते रहे हैं । गिरफ्तार आरोपियों से मोहन मित्तल के मार्ट से चोरी की नगदी रकम, मोबाइल की बरामदगी की गई है।आरोपियों के साथ घटना को अंजाम देने वाले फरार आरोपियों की पतासाजी में पुलिस की विशेष टीम लगी हुई है । दिनांक 16-17 अक्टूबर की दरम्यानी रात लैलूंगा-रायगढ़ रोड़ स्थित मोहन मित्तल के एम.आर. ट्रेडिंग दो मंजिला फूड मार्ट में अज्ञात आरोपियों द्वारा छत के रास्ते दूकान में प्रवेश कर चोरी का अंजाम दिया गया था । आरोपियों द्वारा दुकान के गल्ले से नगद 25,000 रूपये, दो मोबाईल चोरी कर ले गये थे । घटना के संबंध में मोहन मित्तल द्वारा दिनांक 17/10/2021 को थाना लैलूंगा में अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराया गया था । व्यापारी के घर हुए चोरी की वारदात को गंभीरतापूर्वक लेते एसपी श्री अभिषेक मीना द्वारा एडिशनल एसपी लखन पटले, एसडीओपी धरमजयगढ़ दीपक मिश्रा के सुपरविजन में आरोपियों एवं माल मशरूका की पतासाजी के लिये पुलिस टीम गठित करने का निर्देश दिया गया । अज्ञात आरोपियों की पतासाजी में लैलूंगा पुलिस के साथ सायबर सेल के स्टाफ को लगाया गया जिनके द्वारा वारदात के समय के सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे अज्ञात आरोपियों के मिलान को लेकर क्षेत्र में पूछताछ प्रारंभ किया गया ।

पुलिस टीम द्वारा लैलूंगा क्षेत्र के लगभग सभी प्रमुख चौंक-चौराहों के सीसीटीवी फुटेज को चेक किया गया, सिलसिले वार आरोपियों के हुलिया अनुसार लोगों से पूछताछ की गई तथा सायबर सेल की मदद ली गई , जिसमें संदेहियों का घटना के बाद लैलूंगा छोड़कर घरघोड़ा-रायगढ़ की ओर जाने की जानकारी मिली । इस आधार पर पुलिस टीम द्वारा घरघोड़ा एवं रायगढ़ में भी संदेहियों की सघन जांच, पड़ताल शुरू की गई, जिस दौरान आरोपियों का मुम्बई से कनेक्शन होना पाया गया । मामले में पुलिस अधीक्षक द्वारा तत्काल उप निरीक्षक कमल किशोर पटेल के नेतृत्व में एक टीम मुम्बई रवाना की गई । रायगढ़ पुलिस टीम द्वारा स्थानीय पुलिस की सहायता से पहले आरोपी *खड़ग बहादुर उर्फ रविन्द्र* को पूछताछ के लिये पकड़ा गया, जिसकी निशानदेही पर उसके एक अन्य साथी मोबाइल खरीददार आरोपी *बिबेक बहादुर साउद* को पकड़ा गया । आरोपियों से घटना में *चोरी हुआ 01 नग मोबाइल तथा अन्य 03 मोबाइल एवं दुकान से चोरी हुआ 10-10 के सिक्के का पालीथिन पैकेट नगदी करीब 1,000 रूपये बरामद* हुआ है । आरोपियों द्वारा अपने साथी *आरोपी अकिन्दर साउद, प्रकाश परियार, निरापा देव कोटा सभी नेपाल* के साथ मिलकर चोरी को अंजाम देना स्वीकार किया है । आरोपी खड़ग बहादुर उर्फ रविन्द्र (31 वर्ष) अपने कथन में बताया कि इनके गैंग में अकिन्दर साउद, प्रकाश परियार, निरापादेव कोटा शामिल हैं । पूर्व में छत्तीसगढ़ के अन्य जिलों में भी *अकिन्दर अपने साथियों* के साथ आकर चोरी की वरदात को अंजाम दे चुका है । वर्ष 2016 के दिसम्बर माह में अम्बिकापुर जिले के सीतापुर के गुप्ता परिवार के घर सोने चांदी के जेवरात व रूपये पैसे की चोरी की घटना में भी अकिंदर साउद एवं उसके अन्य साथी सभी नेपाली मूल के शामिल थे । 2-3 माह पूर्व मुम्बई के विले पारले इलाके में एक रेसीडेंसी में भी अकिन्दर एवं उसके साथियों द्वारा चोरी की गई थी, जिसके बाद से अकिन्दर को मुम्बई में काम छोड़कर भागना पड़ा । अकिन्दर बोला कि दिवाली के पहले नेपाल जाना है, इसके पहले कहीं चोरी कर रूपये की व्यवस्था करते हैं जिस पर प्लान बनाकर खडग बहादुर उर्फ रविन्द्र, अकिन्दर और प्रकाश बिलासपुर से होते हुए दिनांक 03.10.21 को लैलूंगा पहुंचे । जहां दिनांक 04.10.21 से 07.10.21 तक लैलूंगा के *फोकटपारा के गुलाब दास महंत के घर किराया में रूम* लेकर रहने लगे । मकान मालिक द्वारा किराया का रकम व आई.डी. कार्ड मांगने पर ये लोग हमारे पास नहीं है, हमारा साथी लेकर आ रहा है ऐसा बताये फिर उन्हें मकान मालिक द्वारा रूम से निकाल दिया गया । उसके बाद ये लोग यादव हॉटल के बगल में स्थित मंदिर प्रांगण, बाजार इत्यादि स्थानों पर रहने लगे तथा पत्थलगांव, लैलूंगा में काम की तलाश में जाने लगे । दिनांक 14.10.21 को *इनका एक अन्य साथी निरपादेव कोटा* भी इनके पास लैलूंगा पहुंचा । चारो 15 और 16 अक्टूबर को लैलूंगा के स्थानीय दुकानों में नौकरी मांगने के बहाने रैकी किये और 16 अक्टूबर की रात को योजना बनाकर लैलूंगा-रायगढ़ रोड़ स्थित मोहन मित्तल के एम.आर. ट्रेडिंग दो मंजिला फूड मार्ट में चोरी किये । इनमें से दो आरोपी रविन्द्र और अकिन्दर पुलिस थाना के पेट्रोलिंग पार्टी पर नजर बनाये रखने और अन्य दो प्रकाश और निरपा देव कोटा मार्ट में घुसकर चोरी करने की घटना को अंजाम देकर सभी लोग पैदल - पैदल कुंजारा गोसाईडीह की तरफ जाकर दिनांक 17.10.2021 के सुबह बस से रायगढ़ पहुंचे और रात को ट्रेन से बिना टिकट के मुम्बई निकल गये । जहां हम लोग चोरी के पैसा को आपस में बांट लिये और 01 नग ओप्पो कम्पनी का मोबाईल को 3,500 रूपये में बिबेक बहादुर साउद को बेच दिये और चोरी के पैसों में से एक प्लास्टिक थैली में चिल्लहर पैसे विवेक के पास ही रखवा दिया था ।

गिरफ्तार आरोपी
(1) खड़ग बहादुर साह उर्फ रविन्दर उर्फ कटक पिता नरजंग साह उम्र 31 वर्ष निवासी मलातीकोट थाना संतड़ा जिला मगलसेन नेपाल
(2) बिबेक बहादुर साउद पिता अमर सिंह साउद उम्र 27 वर्ष निवासी मलातीकोट थाना संतड़ा जिला मगलसेन नेपाल ।

फरार आरोपी – (3) अकिन्दर साउद उर्फ लंगड़ा पिता लट्टे बहादुर साउद उम्र 27 वर्ष निवासी ताली थाना संतड़ा जिला मगलसेन नेपाल (4) प्रकाश परियार उम्र 26 वर्ष निवासी चाफा मण्डो थाना संतड़ा जिला मगलसेन नेपाल (5) निरपा देव कोटा उम्र 28 वर्ष निवासी चाफा मण्डो थाना संतड़ा जिला मगलसेन नेपाल । पुलिस अधीक्षक श्री अभिषेक मीना के दिशा निर्देश एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री लखन पटले, पुलिस अनुविभागीय अधिकारी धरमजयगढ़ श्री दीपक मिश्रा के मार्गदर्शन पर पुलिस टीम में शामिल थाना प्रभारी लैलूंगा निरीक्षक रूपेन्द्र नारायण साय, उप निरीक्षक कमल किशोर पटेल, सोमेश गोस्वमी, प्रधान, आरक्षक दुर्गेश सिंह, आरक्षक बृजेश लकड़ा, हरीश पटेल, जॉन प्रकाश टोप्पो, मयाराम राठिया एवं अन्य लैलूंगा स्टाफ की सराहनीय भूमिका रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button