Uncategorized

OMG…अजीबोगरीब मामला शादी के बाद दुल्हा-दुल्हन को तीन दिनों तक शौचालय जानें पर प्रतिबंध……आखिर क्यों ? पढ़िए पूरी खबर…..

देश विदेश 10 july 2021 । सभी देशों में अगल अलग प्रथाओं को माना जाता है । तो वहीं एक अजीबोगरीब एक प्रथा का खुलासा हुआ है जहाँ , हर धर्म, समुदाय और देश में शादी को लेकर अलग-अलग रीति-रिवाज होते हैं लेकिन कई बार ऐसे रीति-रिवाज भी देखने को मिल जाते हैं जो आपको अचरज में डाल देते हैं। क्या आपको पता है कि दुनिया में एक ऐसा देश हैं जहां पर शादी के बाद तीन दिनों तक दूल्हा-दुल्हन शौचालय नहीं जा सकते हैं। शादी के तीन दिन बाद तक नवविवाहित जोड़े के शौचालय जाने पर पाबंदी रहती है। शादी के बाद ये अनोखी रस्म इंडोनेशिया के टीडॉन्ग नामक समुदाय में निभाई जाती है। रस्म बहुत ही कड़ाई के साथ निभाई जाती है।

इंडोनेशिया के टीडॉन्ग समुदाय, बिरादरी के लोग इस रस्म को बहुत महत्वपूर्ण समझते हैं, और इस रस्म को वो पूरी संजीदगी के साथ निभाते हैं। इस रिवाज के पीछे मान्यता है कि शादी एक पवित्र समारोह होता है यदि वर-वधू शौचालय जाते हैं तो उनकी पवित्रता भंग होती है और वे अशुद्ध हो जाते हैं, इसलिए शादी के तीन दिन तक दुल्हा-दुल्हन के शौचालय जाने पर पाबंदी रहती है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसे अपशगुन मानते हैं।

इंडोनेशियां के टीडॉन्ग समुदाय में इस रस्म को निभाने के पीछे एक और कारण है कि नवविवाहित जोड़ो को बुरी नजर से बचाना। इस बिरादरी के लोगों की मान्यताओं के अनुसार जहां पर मल त्याग किया जाता है वहां गंदगी होती है, जिसके कारण वहां पर नकारात्मक शक्तियां होती है। अगर दुल्हा-दुल्हन शादी के तुरंत बाद शौचालय जाते हैं तो उनपर नकारात्मता का प्रभाव हो सकता है। जिससे उनके दांपत्य जीवन में परेशानियां आ सकती हैं, रिश्ते में दरार पड़ सकती हैं और नवविवाहित जोड़े की शादी टूट सकती है।

इस समुदाय के लोग मानते हैं अगर शादी के तुरंत बाद दुल्हा-दुल्हन शौचालय का इस्तेमाल करते हैं तो ये उनके लिए बहुत ज्यादा नुकसानदायक हो सकता है। ऐसे में दोनों में से किसी एक की जान पर खतरा हो सकता है जिससे उनकी नई शादी-शुदा जिंदगी नष्ट हो सकती है। शादी के तीन दिनों तक दुल्हा-दुल्हन को कोई परेशानी न हो और वे रस्म को अच्छे से निभा सकें इसके लिए उन्हें कम खाना-पानी दिया जाता है और इस बात का ध्यान रखा जाता है कि वे शौचालय न जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button