Uncategorizedछत्तीसगढ़जांजगीर चाँपा

अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज प्रकरणों एवं राहत राशि की समीक्षा

अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष ने समाज प्रमुखों से की रूबरू चर्चा..

जांजगीर-चांपा, 24 nov 2021/ छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष श्री भानुप्रताप सिंह और सदस्य श्रीमती अर्चना पोर्ते ने आज कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष जांजगीर में अनुसूचित जनजाति से संबंधित विभिन्न समाज के पदाधिकारियों से मुलाकात की । श्री सिंह ने मुलाकात के दौरान समाज के पदाधिकारियों से सरकार की अनुसूचित जनजाति से संबंधित विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की चर्चा करते हुए इन योजनाओं का लाभ लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि समाज के पदाधिकारी समाज के लोगों को उनके अधिकार के प्रति जागरूक करें। योजनाओं का लाभ लेने में सहयोग करें। समाज में शिक्षा के प्रति लोगों को प्रोत्साहित करें। मुलाकत के दौरान समाजिक पदाधिकारियों के द्वारा अवगत कराये गये सुझाव एवं समास्याओं पर भी चर्चा की गई। आयोग के अध्यक्ष ने वनभूमि पट्टा, जाति प्रमाण पत्र तथा अनुसूचित जन जाति अत्याचार निवारण अधिनियम- 1989 के तहत दर्ज प्रकरणों एवं प्रदाय किये जाने वाली राहत राशि की समीक्षा के लिए जिला स्तरीय बैठक ली।

बैठक में वन अधिकार पत्र प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों के संधारण, देवालय देवगुड़ी की स्थापना, औद्योगिक इकाईयों के भू-विस्थापितो के पुनर्वास, एकलव्य विद्यालय के सुव्यवस्थित संचालन के संबंध में चर्चा की गई।
बैठक में जिला पंचायत सदस्य श्रीमती विद्या सिदार, मनमोहन सिंह गोंड़, संबंधित विभागो के अधिकारी सहित अनुसूचित जनजाति से संबंधित विभिन्न समाज के पदाधिकारी उपस्थित थे।
छत्तीसगढ़ राज्य अनुसूचित जनजाति के अध्यक्ष श्री भानुप्रताप सिंह गुरूवार 25 नवम्बर को पूर्वान्ह 11 बजे कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में आयोग में दर्ज प्रकरणों की सुनवाई करेंगे। सुनवाई के पश्चात वे दोपहर 3 बजे विभिन्न योजनाओं के क्रियान्वयन स्थल निरीक्षण करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button