Uncategorizedक्राइमछत्तीसगढ़सारंगढ़

सारंगढ़ /वारे क्लीनिक के डॉक्टर का सर्टिफिकेट निकला फर्जी….आखिर क्या कहते हैं डॉक्टर KP वारें सुनिए ऑडियो…..

सारंगढ 9 sep 2021 । स्वास्थ्य विभाग की जांच में वारे क्लीनिक के डॉक्टर केपी वारे की डिग्री फर्जी निकली है। विभाग ने राज्य सरकार से सर्टिफ़िकेट के सम्बंधी जानकारी मांगी है। इसके बाद डॉक्टर और उसकी क्लीनिक पर कार्रवाही हो सकती है।
सारंगढ के हिर्री गांव की वारे क्लीनिक पर कार्रवाही के नाम पर अवैध उगाही की आरोप लगने पर सारंगढ तहसीलदार सुनील अग्रवाल को निलंबित कर दिया गया था। तीन महीने बाद उन्हें बहाल कर दिया गया है।

सुनिए ऑडियो……

उनके खिलाफ विभागीय जांच चलती रहेगी। मामले में संभागायुक्त सजंय अलंग ने उन्हें तीन सितंबर को निलंबित किया था,हालांकि अब हिर्री में वारे क्लीनिक में छापे के बाद डॉक्टर केपी वारे की डिग्री और क्लीनिक लाइसेंस जांच के घेरे में है। डॉ. वारे ने बिहार से BAMS की डिग्री ली थी। उसकी डिग्री जांच के लिए टीम बिहार के मुजफ्फरपुर गई थी। जांच में डॉक्टर की डिग्री फर्जी निकली डॉ. वारे को क्लीनिक चलाने की परमिशन थी,लेकिन वह मरीजों को भर्ती करके इलाज किया जा रहा था। गड़बड़ी पकड़े जाने में डॉ. वारे ने अपने MBBS भाई के नाम से हॉस्पिटल खोलने की परमिशन के लिए स्वास्थ्य विभाग में कुछ दिन पहले आवेदन किया है।


यह था मामला- सारंगढ के हिर्री में 7 मई की शाम तहसीलदार सुनील अग्रवाल, BMO डॉ. आर. एल.सिदार और सब इस्पेक्टर कमल किशोर पटेल वारे क्लीनिक गए थे। यहां निरीक्षण के बाद कोई कार्रवाही नही की थी। गुरुचेला’तथा थाने के रोजनामचे में भी निरीक्षण के जिक्र नही किया था। तीन दिन बाद क्लीनिक के डॉ. वारे ने थाने में शिकायत कर आरोप लगाया कि जेल भेजने की धमकी देकर अफसरों ने उनसे 3 लाख रुपये उसूले थे। डॉक्टर ने आरोप लगाया था कि अफसरों ने पहले बड़ी रकम मांगी , व्यवस्था नही होने के बात पर जेल भेजने की बात कही। उन्होंने रिस्तेदारो से व्यवस्था कर तीन लाख रुपये दिए।

दैनिक भास्कर में प्रकाशित खबर…..


तहसीलदार ने CCTV फ़ुटेज डिलीट करा दिया लेकिन फ़ुटेज का एक हिस्सा रह गया। ईंस मामले में पहले SI पटेल और फिर तहसीलदार को निलंबित किया था। BMO को भी हटाया गया था , लेकिन बाद में उन्हें उसी पर पदस्थ कर दिया गया था।

बहाली की गई है लेकिन जांच चलती रहेगी
सारंगढ के तत्कालीन तहसीलदार को निलंबित किया था, यह कार्रवाही सम्भागायुक्त ने की थी। अब बहाल किया गया है, लेकिन पर विभागीय जांच आगे चलती रहेगी। इसमे जो भी कार्रवाही हुई सम्भाग कार्यलय से हो रही है।
आरए कुरुवंशी,अपर कलेक्टर

जांच के बाद कार्रवाही
डॉक्टर वारे ने BAMS का फर्जी सर्टिफिकेट बनवाया था। राज्य सरकार से भी सर्टिफिकेट के सम्बंध में जानकारी मंगाई है। फाइनल रिपोर्ट आने के बाद डॉक्टर के ख़िलाफ़ कार्रवाही की जाएगी।
डॉ.- एस एन केशरी CMHO

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button