Uncategorizedधरमजयगढ़

गजब का तालमेल है एसईसीएल प्रबंधन और अवैध रास्ते से गाड़ी घुसाने वाले गाडी मालिको के बीच

विनोद पटेल

लॉकडाउन के पहले ही दिन फिर से चालू हुआ लात खुली खदान का अवैध मार्ग।

धरमजयगढ़ । एसईसीएल खदान प्रबंधन और अवैध रास्ते से गाड़िया घुसा कर पैसे वसूली करने वालो के बीच यह कैसा तालमेल है,कि एसईसीएल प्रबंधन अपनी खाना पूर्ति के लिए नाली खुदवा कर रास्ता बंद करता है,दो दिन बाद फिर दादागिरी से उसी मार्ग को चालू कर लिया जाता है,और एसईसीएल प्रबंधन मजबूर हो हाथ बांधे देखता रहता है,यदि एसईसीएल को वास्तव में इस मार्ग को बंद करने की चाहत है,तो इन अवैध मार्गी ट्रांसपोर्टरो की वाहनों पर एसईसीएल द्वारा ब्लैकलिस्ट कार्यवाही की जरूरत

धर्मजयगढ़ ! लात खुली खदान से दादागिरी पूर्वक कोयला लोड करवाने के लिए एसईसीएल के एंट्री पॉइंट के समानांतर लॉकडाउन का फायदा उठाकर एक बार फिर बनाया गया रोड। तेंदूपत्ता गोदाम के सामने लॉकडाउन में फिर से अवैध मार्ग बनने से मुख्यमार्ग में लगने लगी भारी वाहनों की कतार लॉकडाउन में भी वसुलीबाजो को कोविड 19 का भय नही चला रहे अपना कारोबार।

आपको बतादे की इस अवैध मार्ग के बनने से क्षेत्र के लोगो को भी होती है काफी परेशानी ट्रेलर चालक तो जल्दी खदान में अपनी गाड़ी लगाने के लिए 50रुपये से 100रुपये तो इस अवैध मार्ग के वसुलीबाजो को पैसा तो दे देते है जिससे कि वे इस मार्ग से जल्दी खदान में घुस जाते है पर इसी जल्दबाजी के चक्कर मे ये ट्रेलर चालक मुख्यमार्ग में जंहा ताह गाड़ी खड़ा करके मुख्य मार्ग को बाधित करते है जिसके वजह से धूल चौक के पास मार्ग बाधित होता है और मार्ग जाम की नौबत तक आजाती है और कभी कभी तो इसकी वजह से दुर्घटना भी होती है जिसके लिए इस मार्ग को बंद करवाने जे लिए कई दफा खेदापाली के ग्रामीण शिकायत भी शासन प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों को कर लिखित और मौखिक भी कर चुके है। पर शायद यंहा वसुलीबाजो का पकड़ इन भोले भाले ग्रामीणों से ज्यादा है जो कि इनका शिकायत का आवेदन इन बैठे जिम्मेदार अधिकारियों के ठंडे बस्ते में चले जाता है जिसके वजह से इन वसुलीबाजो के हौसले काफी ज्यादा आसमानों को छूने लगे है क्योंकि ये अपनी सेटिंग ही इतने अच्छे तरीके से कर रखे है जो कि शिकायत के बावजूद इस मार्ग के तरफ प्रशासन का ध्यान नही जा रहा। एसईसीएल प्रबंधन द्वारा इस मार्ग को कई दफा बंद करने के लिए 2 से 3 जगहों से गड्ढा खोदकर बंद भी किया गया पर उसका भी कोई फायदा नही वसुलीबाजो द्वारा इस मार्ग को फिर से चालू कर दिया जाता है।

प्रबंधन और प्रशासन के सहयोग से ही यह मार्ग होगा बंद तब जाकर होगी क्षेत्रवासियों की समस्या दूर

इस मार्ग में घुसी गाड़ियों को खुद एसईसीएल प्रबंधन और प्रशासन के सहयोग से वाहन चालको पर कार्यवाही की जरूरत है, साथ ही जो भी गाड़ियों इस मार्ग में घुसे उसे एसईसीएल प्रबंधन अपनी खदानों में 30 दिनों के लिए ब्लैकलिस्ट करने की कड़ी कार्यवाही करें तभी जाकर यह अवैध मार्ग बंद हो सकता है। जिसके बाद ही मुख्यमार्ग में जाम और दुर्घटना जैसे हालात नही रहेंगे क्षेत्रवासी अपने आपको सुरक्षित महसूस करेंगे ।

Back to top button